More

    Latest Posts

    अमीरों के घर 'रुपयों की बारिश', अति-धनवानों की संख्या में भारी बढ़ोतरी

    अल्ट्रा-हाई नेट वर्थ इंडिविजुअल्स (UHNWIs) की वैश्विक आबादी 46,000 की वृद्धि के साथ 218,200 के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई है। ग्लोबल वेल्थ रिपोर्ट 2022 में कहा गया है कि UHNWIs को पिछले साल फाइनेंशियल एसेट्स के मूल्य में वृद्धि से लाभ हुआ। ये वृद्धि इस सदी में किसी भी अन्य वर्ष में दर्ज की गई वृद्धि से दोगुने से भी अधिक है। 

    अति-धनवान लोगों में से अधिकांश अमेरिका में रहते हैं

    क्रेडिट सुइस के अनुसार, अब वैश्विक स्तर पर 218,200 लोग हैं, जिनकी संपत्ति 50 मिलियन डॉलर या 4.06 अरब रुपये से अधिक है। दुनिया के अति-धनवान लोगों में से अधिकांश (53%) अमेरिका में रहते हैं। क्रेडिट सुइस ग्लोबल वेल्थ रिपोर्ट के नए डेटा से पता चलता है कि पिछले साल ‘रुपयों की बारिश’ हुई थी। 

    यह भी पढ़ें: गौतम अडानी का घटा रुतबा, अरबपतियों की लिस्ट में जेफ बेजोस से पिछड़े, मुकेश अंबानी टॉप-10 से बाहर

    भारत में 500 मिलियन डॉलर से अधिक की संपत्ति वाले केवल 210 लोग

    बता दें अधिकांश अति-अमीर व्यक्ति पहले से ही संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हैं, लेकिन 2021 में अमेरिका इस विशेष अति-धनवान श्रेणी में 30,470 लोगों की आश्चर्यजनक वृद्धि देखी गई।अगर भारत की बात करें तो 3024 लोगों के पास 50 से 100 मिलियन डॉलर तक की दौलत है। वहीं, 100 मिलियन से 500 मिलियन डॉलर तक की संपत्ति वाले रईसों की संख्या 1750 है। और 500 मिलियन डॉलर से अधिक की संपत्ति वाले केवल 210 लोग हैं। एक मिलियन डॉलर 8.13 करोड़ से अधिक होता है। 

     

    रिपोर्ट में दिए गए आंकड़ों के मुताबिक चीन और भारत में अति-धनी लोगों की आबादी नाटकीय रूप से बढ़ेगी, लेकिन अभी भी संयुक्त राज्य अमेरिका को पछाड़ने से पहले दोनों को एक लंबा रास्ता तय करना है। अमेरिका के अलावा अति-धनी व्यक्तियों की सबसे बड़ी वृद्धि चीन (5,200), जर्मनी (1,750), कनाडा (1,610), और ऑस्ट्रेलिया (1,350) की थी। जबकि, यूनाइटेड किंगडम (-1,130), तुर्की (-330), और हांगकांग एसएआर (-130) में ऐसे दौलतमंद लोगों की संख्या में सबसे बड़ी गिरावट भी देखी गई।

    Latest Posts

    Don't Miss