More

    Latest Posts

    नवरात्रि में छोटी बचत योजनाओं पर सरकार का तोहफा, अक्टूबर से यहां मिलेगा ज्यादा मुनाफा

    नवरात्रि में स्मॉल सेविंग स्कीम्स में निवेश करने वाले निवेशकों को खुशखबरी मिली है। दरअसल, सरकार ने गुरुवार को तीसरी (अक्टूबर-दिसंबर) तिमाही के लिए स्मॉल सेविंग स्कीम्स की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। ब्याज दरों में ये बढ़ोतरी 27 माह बाद की गई है। इस बार 1 अक्टूबर से शुरू होने वाली तिमाही के लिए ब्याज दर में 30 बेसिस प्वाइंट तक की बढ़ोतरी की गई है। हालांकि, ये बढ़ोतरी कुछ स्मॉल सेविंग स्कीम्स पर की गई है।

    क्या हुए बदलाव: इस संशोधन के बाद डाकघर में तीन साल की जमा पर अब 5.8 प्रतिशत ब्याज मिलेगा। अभी तक यह दर 5.5 प्रतिशत थी। इस तरह चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में ब्याज दर में 0.3 प्रतिशत की वृद्धि होगी। वहीं, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर अब 7.6 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा। अभी तक इस योजना पर 7.4 प्रतिशत ब्याज मिल रहा था। किसान विकास पत्र के संदर्भ में सरकार ने इसकी अवधि तथा ब्याज दर दोनों में संशोधन किया है। इसके तहत किसान विकास पत्र पर ब्याज अब 7.0 प्रतिशत होगा जो पहले 6.9 प्रतिशत था। अब यह 124 महीने के बजाए 123 महीने में मैच्योर होगा।

    कहां नहीं हुआ बदलाव: नौकरीपेशा लोगों के बीच लोकप्रिय लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) पर ब्याज 7.1 प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है। इसके अलावा बेटियों के लिए शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना पर भी ब्याज दर 7.6 प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है। वहीं, पांच साल की रेकरिंग जमा पर ब्याज पहले की तरह 5.8 प्रतिशत मिलता रहेगा।

    ये पढ़ें-PPF से सुकन्या तक की ब्याज दर में होगा इजाफा! 27 माह बाद खुशखबरी

    इससे पहले अप्रैल-जून 2020 तिमाही के दौरान ब्याज दरों को संशोधित किया गया था। आपको बता दें कि सरकार हर तिमाही छोटी बचत योजनाओं की समीक्षा करती है। इसके बाद ब्याज दरें बढ़ाने या घटाने या फिर स्थिर करने का फैसला लिया जाता है। यह फैसला वित्त मंत्रालय की ओर से लिया जाता है।

    Latest Posts

    Don't Miss