More

    Latest Posts

    ₹109 से 16 रुपये पर आ गया यह शेयर, निवेशकों के 1 लाख घटकर ₹15 हजार हो गया, कंपनी में चल रहा विवाद

    पिछले कुछ दिनों से ब्रॉडकास्ट सैटेलाइट सर्विस प्रोवाइडर डिश टीवी (Dish TV) के शेयर फोकस में हैं। कंपनी में मैनेजमेंट लेवल पर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इसका असर शेयरों पर साफ दिख रहा है। पिछले पांच दिन में यह शेयर लगभग 14% तक टूट गया। हालांकि, आज थोड़ी रिकवरी नजर आई और शेयर 2% से ज्यादा चढ़कर 16.40 रुपये पर बंद हुआ। 

    Dish TV शेयर प्राइस हिस्ट्री
    डिश टीवी के शेयर पिछले एक साल में 20.77% गिरा है। इस दौरान यह 20.70 रुपये से टूटकर 16.40 रुपये पर आ गया। वहीं, पिछले पांच साल में यह शेयर 78.09% तक टूट गया। इस दौरान यह शेयर 74.85 रुपये से गिरकर मौजूदा शेयर प्राइस तक आ गया। लगभग 15 साल में यह शेयर 109.60 रुपये से गिरकर 16.40 रुपये तक पहुंच गया। इस दौरान निवेशकों को करीबन 85.04% का नुकसान हुआ है। यानी जिस किसी ने इस शेयर को 2007 में खरीदा होगा और अब तक निवेशित रहता उसे अब तक भारी नुकसान हुआ है। इस दौरान 1 लाख का निवेश घटकर 15.03 लाख रुपये रह गया।

    यह भी पढ़ें- यह कंपनी सरकार को शेयर जारी करने की बना रही योजना, शेयरों को खरीदने टूटे लोग, रॉकेट बना स्टॉक

    कंपनी में चल रहा है विवाद
    हाल ही में कंपनी के सबसे बड़े प्रमोटर के विरोध के बाद डिश टीवी के चेयरमैन जवाहर लाल गोयल (Jawahar Lal Goel) ने कंपनी के बोर्ड से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद कंपनी के एजीएम में डिश टीवी के शेयरधारकों ने वित्त वर्ष 2020-21 और 2021-22 के लिये वित्तीय लेखे-जोखे को स्वीकार करने तथा स्वतंत्र निदेशक राकेश मोहन की नियुक्ति समेत चार प्रस्तावों को खारिज कर दिया है। कंपनी ने शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि डिश टीवी ने 26 सितंबर को हुई सालाना आम बैठक में छह प्रस्तावों पर शेयरधारकों से मंजूरी मांगी थी। इसमें 2021-22 और 2022-23 के लिये ‘कॉस्ट आडिटर’ के पारितोषिक को मंजूरी दे दी गई।

    यह भी पढ़ें- टाटा का एक फैसला और ग्रुप की 7 कंपनियों के शेयर धड़ाम, लगातार टूट रहा भाव, निवेशकों को नुकसान

    शेयरधारकों ने वित्त वर्ष 2020-21 और 2021-22 के लिये एकल और एकीकृत आधार पर वित्तीय ब्योरे को स्वीकार करने तथा निदेशक मंडल और ऑडिटर की रिपोर्ट की मंजूरी से जुड़े साधारण प्रस्तावों को खारिज कर दिया। इसके अलावा शेयरधारकों ने वॉकर चांडिओक एंड कंपनी एलएलपी के स्थान पर एस एन धवन एंड कंपनी एलएलपी को वैधानिक ऑडिटर नियुक्त करने के प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया।

    Latest Posts

    Don't Miss